सिंगल मदर नीना गुप्ता और Love Child मसाबा

दोस्तों ऐसा कहा जाता है कि इंसान हमेशा जीवन में दो ही चीजों से हारता है पहला वक्त और दूसरा प्यार। वक़्त कभी किसी का नहीं होता और प्यार हर किसी से नहीं किया जा सकता। नीना गुप्ता पर यह बात पूरी तरह फिट बैठती है। बात उस वक़्त की है जब नीना गुप्ता ने अपनी इच्छा से सिंगल मदर बनने का चुनाव किया और 1989 में उन्होंने उस ‘लव चाइल्ड’ को जन्म दिया जिसे आज हम सब मसाबा के नाम से जानते हैं। मसाबा बालीवुड की नामी फैशन डिजायनर हैं ।

सोचिए उस वक़्त 90 के दशक में यह कितनी बड़ी बात रही होगी! चूंकि नीना का यह खुद का चुनाव था इसलिए वे नहीं चाहती थीं कि वेस्टइंडीज के क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स का नाम लोगों के सामने आए। वे नहीं चाहती थीं कि विवियन के करियर पर उस बात का असर हो। इस दौरान नीना जी को आर्थिक मुसीबतोंका सामना भी करना पड़ा। वक़्त गुजरा मसाबा बड़ी हुईं और जब उनके स्कूल में एडमिशन की बात आई । पिता के नाम का कॉलम भरा जाना था। तब निर्माता निर्देशक सतीश कौशिक ने स्कूल फार्म में पिता के कॉलम में अपना नाम भरे जाने की पेशकश की। एक दोस्त होने के नाते सतीश जी को इस बात का इल्म था की नीना विवियन का नाम सामने नहीं लाना चाहतीं। नीना की इस फीलिंग का सम्मान करते हुए उन्होंने अपनी बात रखी। अब इतनी बड़ी बात तो कोई जिगरी दोस्त ही कह सकता है। हालांकि, फाइनली नीना गुप्ता ने पिता के नाम के आगे विवियन रिचर्ड्सका नाम लिखा। लेकिन दोस्ती की ऐसी मिसाल ऐसी पाकीजगी बहोत कम ही देखने को मिलती है। सतीश और नीना कॉलेज और थियेटर के दिनों से ही अच्छे दोस्त थे। उन्होंने साथ में फिल्में की और थियेटर भी किया। हिंदी सिनेमा का मास्टरपीस ‘जाने भी दो यारों’ याद है न आपको! नीना और सतीश ने इस फिल्म में एक साथ काम किया था और उनकी यह दोस्ती आज भी बदस्तूर कायम है

हमारी दुआ है खुदा ऐसे दोस्त हम सबको बख्शें।  बगैर पिता के नाम के स्कूल एडमिशन आज भी एक मुश्किल काम है। आखिर स्कूल या किसी भी फॉर्म में केवल मदर के नाम का कॉलम क्यों नहीं हो सकता? जब वक़्त बदल रहा है जरूरतें बदल रही हैं तो हमें भी बदल जाना चाहिए। अब जब दोस्ती की बात निकली ही है तो किसी की कही कुछ पंक्तियां याद आ गईं। 

‘क्यूं मुश्किलों में साथ देते हैं दोस्त, क्यूं गमों को बांट लेते हैं दोस्त

न रिश्ता खून का न रिवाजों से बंधा, फिर भी जिंदगी भर साथ देते हैं दोस्त। 

pic credit google

Matinee Box Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *